त्वचा को रूखेपन से बचाना है तो इनका उपयोग करे।

अक्सर सर्दियों के मौसम में हमारी त्वचा में रूखापन होने लगता है। इसी रूखेपन की समस्या से बचने के लिए लोग तरह तरह के केमिकल कॉस्मेटिक उत्पाद इस्तेमाल करते है। बाजार में कई प्रकार के बॉडी लोशन और कास्मेटिक उपलब्ध है, लेकिन कभी-कभी ये हमारी त्वचा के लिए हानिकारक भी होते है। त्वचा के रूखेपन से बचने के लिए कुछ ऐसे भी घरेलू उत्पाद है जो हमे आसानी से मिल सकते है और जिनसे हमारी त्वचा को कोई नुकसान भी नही पहुचता है। आइये जानते है कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे जो हमारी रूखी त्वचा को ठीक कर सकते है।

सरसों का तेल

सरसों का तेल हर घर मे उपयोग किया जाता है। प्रायः घरों में खाना पकाने में भी सरसों के तेल का उपयोग किया जाता है। सरसों का तेल हमारी त्वचा के लिए भी अच्छा होता है। अगर स्नान करने से पहले हम अपने पूरे शरीर पर सरसों का तेल लगा ले और फिर स्नान करे तो हमारी स्किन सॉफ्ट हो जाती है और रूखापन नही रहता है।

MUSTURD OIL
सरसों का तेल

तिल का तेल

तिल का तेल शरीर में लगाने से त्वचा मुलायम हो जाती है जिससे उसका रूखापन समाप्त हो जाता है। सर्दियों में इसे रोज़ाना लगाना चाहिए।

तिल का तेल

नारियल का तेल

नारियल का तेल हर घर मे उपयोग होता है। कही पर तो इसे खाने में भी इस्तेमाल किया जाता है। नारियल का उपयोग हर प्रकार से किया जाता है। नारियल का तेल हमारे स्किन को मुलायम रखता है। इसे बालों में रोज़ाना लगाना चाहिए। इससे बालों में रूसी से छुटकारा मिल जाता है।

नारियल का तेल

एलोवेरा

एलोवेरा का पौधा लगभग हर घर मे होता है। इसका एलोवेरा जेल निकाल कर आप अपनी स्किन पर लगा सकते है। रोज़ाना रात को इसका जेल लगाकर सो जाइये ओर सुबह उठकर अपना फेस धो लीजिये। आपका चेहरा कुछ ही दिनों में दमक उठेगा। आप इसे नहाने से पहले सुबह अपनी स्किन पर भी लगा सकते है। इसको रोज़ाना लगाने से आपकी त्वचा मुलायम हो जाएगी।

एलोवेरा

दूध की मलाई

दूध की मलाई में बहुत सारे गुण होते है। मलाई में चिकनाहट होने के कारण यह एक तरह से स्किन क्रीम का काम करती है। ये त्वचा के रूखेपन को मिनटों में खत्म कर देती है। दूध हर घर मे आसानी से उपलब्ध हो जाता है। दूध पीने से जितना आपको प्रोटीन मिलता है उतना ही इसकी मलाई को स्किन पर लगाने से फायदा होता है। मलाई आपकी त्वचा को मुलायम बना देती है।

दूध की मलाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *